Hindi Sex Story : प्यासी साली की प्यास छत पर मिटाई

0
33

हेल्लो मित्रो कैसे है आप सब आप लोगो ने बहुत कहानियां पढ़ी होगी मैंने भी पढ़ी है मै भी मस्ताराम.नेट का फैन हूँ दोस्तों जब तक एक कहानी पढ़ कर चुदाई या मुठ ना मार लू तब तक रात को नीद नहीं आती है | दोस्त अभी कुछ दिन पहले की ही ये घटना है मैंने प्यासी साली की प्यास छत पर मिटाई मेरी साली का नाम शीला है | अभी तक उसकी शादी नहीं हुयी है क्योकि अभी वो आगे की पढाई कर रही है | उसकी बॉडी इतनी मस्त है की उसके ऊपर लेटने पर लगता है किसी गुजगुज गद्दे पर लेट गये हो दोस्तों हुआ कुछ यु की पिछले हफ्ते मै अपने ससुराल गया मेरी सासु माँ बीमार हो गयी थी |

मेरी वाइफ ने कहा चलो मम्मी को देख के आते है मै बोला ठीक है मै और मेरी वाइफ शाम को अपने ससुराल पहुचे और मेरी साली को पता था की हम आज आने वाले है तो वो पहले से तैयार होकर इन्जेजर कर रही थी | हम दोनों पहुचे और रात को खाना खाया और मेरी वाइफ अपने मम्मी के कमरे में सो गयी मै बोला गर्मी हो रही है मै छत पर चला जाता हूँ | मेरी वाइफ ने अपनी बहन यानी मेरी साली को बोला जा छत पर जीजा के लिए बिस्तर लगा दे | मै पहले ही छत पर पहुच कर टहल रहा था | तबतक मेरी साली शीला आई और बिस्तर लगाने लगी | मै उससे कुछ इधर उधर की बाते करने लगा | फिर शीला को पकड़ कर वही बिस्तर पर बैठा लिया और बाते करने लगा |

करीब 1 घंटे तक बाते करते रहे आखिर बाते करते करते हम सेक्स के टॉपिक पर पहुच गये और मैंने पूछ लिया शीला क्या तुमने कभी सेक्स किया है तो वो बोली नहीं जीजा इच्छा तो बहुत होती है पर मौका नहीं मिल पाता की करू | फिर क्या मैंने समझ गया मेरी साली प्यासी है इसे चोदना जरुरी है | मै सुरु हो गया उसके जांघ पर हाथ रख कर सहलाने लगा और वो कसमसाने लगी धीरे धीरे करीब 1 घंटे तक इधर उधर उसके बॉडी पर छूते छूते उसे खूब गर्म कर दिया और अचानक शीला आकर मेरे ऊपर लेट गयी और मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे मुह में मुह डाल कर किस करने लगी मै भी सुरु हो गया और उसके पिछवाडे पर हाथ से मसलने लगा और साथ में उसके बूब्स को दबाने लगा और आखिर थोड़ी देर में शीला इतनी गर्मी हो गयी थी की अपने से मेरा ज़िप खोल लिया मेरा 7 इंच का लंड भी फुफकारे मार रहा था और शीला ने उसे अपने हाथो में पकड़ लिया और जोर जोर से हिलाने लगी और फिर अपनी पैंटी खोल कर बोली जीजा जल्दी से कुछ करो पता नहीं क्या हो रहा है |

मैंने शीला को लिटा दिया और बोला देखो अगर पहले कभी चुदी नहीं तो समझो थोडा दर्द होगा फिर मज़ा आएगा तो प्लीज चिल्लाना नहीं बस दर्द कम होने का इन्तेजार करना ताकि मज़ा कर सको | फिर क्या मैंने आव देखा ना ताव उसकी चूत पर अपने लंड को सेट कर धीरे से धक्का दिया और मेरा लंड लगभग 2 इंच उसकी चूत में अन्दर घुस गया और शीला को दर्द सुरु हो गया मुझे बोली जीजा बहुत दर्द हो रहा जैसे लग रहा है कोई चूत में सरिया घुसा रहा है प्लीज निकाल दो | मै बोला बस थोडा सा दर्द और होगा फिर देखना कितना मज़ा आता है |

फिर क्या मैंने पहले उसके मुह में अपनी जीभ धुसा दी की अगर दर्द हो तो वो चिल्ला ना सके और फिर मैंने एक जोर का धक्का मारा और मेरा पूरा लंड सटकते हुए पूरा जड़ तक घुस गया और उसके मुह को मैंने पहले ही कश कर दबा दिया था अब उसके मुह से gu gu की आवाज आ रही थी और मै 5 मिनट कर बिना धक्के मारे रुके रहा | अब थोड़ी देर में शीला को जब दर्द से आराम मिला तो निचे से धक्के मारने लगी मै भी समझ गया अब लगता है दर्द kam हो गया है | मैंने भी सुरु कर दिया धक्के मारने अब 15 मिनट में करीब 5 बार शीला झड़ी थी अब मेरा भी होने वाला था मैंने सोचा पहली चुदाई है शीला की चूत में ही झड़ जाता हु और फिर जब मै झड़ने लगा तो शीला भी मेरे गर्म वीर्य का एहसास पाकर फिर से झड़ गयी और हम दोनों उस रात 4 बार चुदाई किये अब जब शीला का मन होता है कोई बहाना कर अपने दीदी से मिलने के बहाने आती है और खूब चुद्वाती है मज़ा आता है अगर आपको भी मज़ा आया तो इस कहानी को शेयर और कमेंट देना ना भूले ताकि अगली कहानी और भी मजेदार मिले पढ़ने को और मस्ताराम डॉट नेट के बारे में अपने दोस्तों को भी बाताये |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here