Hindi Chodai Story : ऑफिस की एच आर और कलिग के साथ ग्रुप सेक्स

0
38

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम जिगर हैं और आज की ये कहानी मेरी मेनेजर और कलिग के साथ मेरे थ्रीसम सेक्स की हैं. मैं 26 साल का आदमी हूँ जो बंगलौर की एक कम्पनी में काम करता हूँ. कभी कभी मुझे काम के लिए मैसूर भी जाना पड़ता हैं.

वैसे मैं अलग अलग इन दोनों के साथ सेक्स कर चूका था और काफी समय से हम लोग ग्रुप बना के सेक्स करने का सोच रहे थे. वो दोनों को भी इस नए अनुभव का मज़ा लेना था. दोस्तों मेरी एचआर मेनेजर का नाम चंचल हैं और जो मेरी कलिग है उसका नाम सनाया हैं. सनाया और मैंने प्लान किया की अगले महीने जब हम काम के लिए मुंबई जायेंगे तब वहां थ्रीसम करेंगे.

मैं अपनी एचआर चंचल के साथ पहले मुंबई चला गया और फिर अगले दिन सनाया भी आ गई वहां पर. कम्पनी वालों ने जो होटल बुक की थी वहां से कुछ दूर हमने एक और होटल में बुकिंग की. बुकिंग हमने कम्पनी के नाम से ही की थी ताकि किसी को शक ना हो.

शाम को डिनर करने के बाद सब लोगों को सनाया और चंचल ने बोला की वो लोग बहार जा रही हैं और मैंने कहा की मेरी दीदी यही रहती हैं इसलिए मैं उन्हें मिलने जा रहा हूँ. अलग अलग टैक्सी कर के हम लोग हमारे बुक किये हुए होटल पर गये. वहां पर हमने मजे करने के लिए कॉटेज बुक किया हुआ था. और उस कॉटेज के पीछे बादसा ही अच्छा व्यू था. कॉटेज के अन्दर एक बड़ा बेडरूम और किंग साइज़ बेड था. ये दोनों लेडी ने मुझे धक्का दे के बेड पर फेंक दिया. और वो बोली डार्लिंग तुम्हारे लिए एक सरप्राइज हैं. जब वो दोनों ने अपने कपडे खोले तो मैं उन्हें देख के दंग रह गया. वो दोनों ने सेम रंग की लिंगरी पहनी हुई थी और वो ट्रांसपरेंट कपडे की थी जिसमे से उनके निपल्स और चूत साफ दिख रहे थे. मैं उनके पास गया और दोनों की गांड के ऊपर सपेंक किया.

मैं सनाया के पास गया और उसे किस करने लगा. और वो दोनों मेरे लान्द्द को अंडरवियर के अंदर हाथ डाल के मेरे लंड से खेलने लगी. और फिर उन्होंने मेरी पेंट को पूरी निकाल दी. सनाया मेरे पास आ गई और उसने बड़े ही सेक्सी लुक्स दिखा के मेरे लंड को मुहं में ले लिया. वो जैसे की लोलीपोप मुहं में ले रही थी वैसे बड़े सेक्सी ढंग से अपनी जबान को जोर जोर लंड को चाटने लगी. मैं सनाया के बूब्स को चूसने लगा और उसकी बगल को भी चाटने लगा. चंचल ने जोर जोर से लंड को चुसना चालु कर दिया. और फिर चंचल मेरे पास आई और मेरे ऊपर चढ़ के उसने अपने एक बूब को मेरे मुहं में दे दिया चूसने के लिए. और सनाया उस वक्त निचे चली गई मेरे लंड को मुहं में लेने के लिए.

यह कहानी भी पढ़े : चुदासी चूत की प्यास बुझाने के लिये कुत्ते से चुदवाया

कुछ देर में मैंने सनाया को कहा मेरा पानी निकलने को हैं तो वो बोली, मुहं में ही निकाल दो. ये कह के उसने लंड वापस मुहं में भर के चूसा. मेरे लंड का सब पानी सनाया के मुहं में ही निकल गया. सनाया और चंचल ने मेरे वीर्य को एक दुसरे के मुहं में घुमाया और सवाद ले ले के उसे खा गई.

फिर मैं निचे लेट गया और सनाया मेरे ऊपर आ गई. मैं सनाया के चहरे को चाटने लगा और उसके होंठो को चूसने लगा. मेरे हाथ उसकी नेक में थे और मैंने उसे प्यार से सहला भी रहा था. और फिर मैंने उसकी लिंगरी को खोल दिया और उसके बूब्स को चूसते हुए चूत की तरफ बढ़ गया. मैंने उसकी टांगो को खोला और उसकी बड़ी चूत को चाटने लगा, वो जोर जोर से मोअन कर रही थी अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह. मैंने अपनी दो ऊँगली उसकी चूत में डाल दी और ऊँगली से उसकी चूत को चोदने लगा.

कुछ देर में सनाया के बदन को झटके लगने लगे और उसने बहुत सब झाड निकाली अपनी चूत से. मैंने उसकी चूत को चाट चाट के एकदम क्लीन किया और सब ज्यूस को चाट लिया. और फिर चंचल ने उसकी जगह ले ली. मैंने चंचल की टाँगे खोल के उसकी चूत को सुंघा. चूत से एकदम मादक खुसबू आ रही थी. चंचल की चूत सनाया जितनी बड़ी नहीं थी. लेकिन उसकी चूत का दाना सनाया से काफी बड़ा था. मैंने चूत के दाने को अपनी ऊँगली से दबाया और फिर उसे लिक करने लगा. मैं चंचल की चूत को चाट रहा था और सनाया उस वक्त चंचल को किस कर रही थी. मैं जोर जोर से चंचल को लिक कर के उसे मजे दे रहा था. तभी चंचल ने मेरे बाल पकड लिए और वो भी झड़ गई.

अब इन दोनों सेक्सी लेडी को चोदने का समय आ गया था. मैंने चंचल की लिटा दिया और सनाया को उलटा कर के घोड़ी बना दिया. हमारा पोस ऐसा था की मैं सनाया को घोड़ी बना के चोदुं और तब वो चंचल की चूत को चाटे. मैंने लंड को सनाया की चूत में पूरा डाल के उसकी मस्त चुदाई चालू कर दी. और वो चंचल की चूत को मजे से चाट रही ही. दोस्तों आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पे पढ़ रहे है।

मैंने सनाया की बड़ी गांड को पकड़ा हुआ था और उसे जोर जोर से चोद रहा था. चंचल और सनाया दोनों जोर जोर से मोअन कर रही थी. एक को चुदवाने का मज़ा आ रहा था और दूसरी को चटवाने का. करीब 10 मिनिट तक मैंने सनाया को कस कस के ऐसे ही चोदा. और फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत से निकाला. चूत के अन्दर का सफ़ेद पानी मेरे लंड के ऊपर लगा हुआ था. चंचल को मैंने लंड मुहं में दे दिया. उसने लंड को चाट के क्लीन कर दिया. मैंने अब चंचल को कहा, चल अब तुम आ जाओ.

यह कहानी भी पढ़े : नौकर ने पटा कर चोदा और अपने मालिक से भी चुदवाया

अब चंचल को मैंने डौगी स्टाइल में चोदना चालू कर दिया. और वो सनाया की चूत लिक कर रही थी. चंचल मुझे कह रही थी की और जोर जोर से चोदो और वो अपनी गांड को जैसे हवा में उछाल रही थी. मैंने अपने धक्के और बढ़ा दिए. और फिर मेरे लंड का पानी चंचल की सेक्सी चूत में ही छुट गया. चंचल और सनाया दोनों ने मेरे पास आ के मेरे लंड को मुहं में ले के क्लीन कर दिया. दोनों के चहरे के ऊपर मेरे स्पर्म लगे हुए थे.

वो एक बड़ी ही सेक्सी चुदाई थी. और मेरा लंड अभी भी ऐसे ही खड़ा हुआ था. अब मैंने चंचल को मिशनरी पोज में लिटाया और सनाया साइड में लेट गई थी. मैंने चंचल की चूत में लंड डाला. और सनाया अपनी चूत का फिंगर कर रही थी. फिर सनाया खड़ी हुई, मैंने चंचल को चोद रहा था और उसने पीछे आ के मेरे बॉल्स को लिक किये. सच में ऐसे मजा आ रहा था जैसे की मैं पोर्न मूवी का एक्टर था!

मैं चंचल को जोर जोर से चोद रहा था और वो एकदम चीखे मार के मोअन कर रही थी. फीर मैंने सनाया को लेटने के लिए कहा. चंचल की चूत से निकला हुआ लंड मैंने सीधे ही सनाया की चूत में घुसेड के चोदना चालू कर दिया. 10 मिनिट तक मैं उसके निपल्स को लिक करते हुए उसकी चूत को चोद रहा था.

और फिर हम तीनो ऐसे ही पोजीशन बदल बदल के चोदते रहे. कुछ देर में मेरा माल फिर से निकल गया. मैं चंचल और सनाया के बिच में लेटा हुआ था.

तभी सनाया बोली, मुझे तुम्हारे उपर मूतना हैं. चंचल ने कहा मुझे भी. मैंने कहा, साली छिनालो मूतना तो मुझे भी हैं. वो बोली, चलो बाथरूम में. बाथरूम के अन्दर एक दुसरे के ऊपर मूत के हमने अपने थ्रीसम अध्याय का अंत किया. एक घंटे के बाद पहले मैं कंपनी वाले होटल पर आया. और फिर मेरे पीछे वो दोनों भी आ गई. सच में हमारा थ्रीसम बड़ा ही होर्नी अनुभव रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here